Website Last Updated on October 18, 2017      
Schemes - Women Empowerment
महिला विकास कार्यक्रम–
महिलाओं के समग्र विकास के उद्देश्यe से वर्ष 1984 में प्रयोगात्म क रूप में राज्य के 7 जिलों यथा जयपुर, अजमेर, जोधपुर, भीलवाडा, उदयपुर, बांसवाडा व कोटा में महिला विकास कार्यक्रम प्रारंभ किया गया था। कार्यक्रम की सफलता एवं महिलाओं के इसमें रूझान की दृष्टिगत कार्यक्रम का विभिन्नय चरणों में विस्तासर किया जाकर वर्तमान में यह कार्यक्रम राज्यक के समस्तड जिलों में संचालित किया जा रहा है। इसका मुख्यय ध्ये।य महिलाओं विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में उनके अधिकारों के प्रति जागरूकता बढाना एवं विभिन्न विभागों की योजनाओं और नीतियों का लाभ लेना है।
महिला अधिकारिता निदेशालय : मुख्य कार्य
  • महिलाओं की सुरक्षा एवं संरक्षण के लिए कार्यक्रम लागू करने के लिए महिला सलाह एवं सुरक्षा केन्द्रों की स्थाषपना व विभिन्न विभागों से समन्वय
  • जिला स्त‍रीय महिला सहायता समिषतियों के माध्यवम से उत्पीपडत महिलाओं को अविलम्बच राहत पहुंचाना
  • महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने, सामाजिक बुराइयां यथा दहेज प्रथा, बाल विवाह, अशिक्षा, कन्या भू्रण हत्या आदि को समाप्त करने हेतु महिलाओं को जागरूक करने के लिए महिला विकास कार्यक्रम का क्रियान्वयन
  • महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए स्वयं सहायता समूह आन्दोलन के माध्यम से कार्यक्रम का क्रियान्वयन
  • स्वयं सहायता समूह संस्थान की स्थापना
  • सभी संभाग स्तर पर महिला संदर्भ केन्द्रों की स्थापना
  • किशोरी बालिकाओं को जीवन कौशल शिक्षा उपलब्ध कराने हेतु किशोरी शक्ति योजना का संचालन
  • सामूहिक विवाह प्रोत्साहन, बाल विवाह निषेध आदि योजनाओं द्वारा सामाजिक परिलाभ प्रदान करना।
WDP Theme
To create appropriate environment for the growth and development of each and every woman as an educated, well informed and self-reliant person in the society capable of claiming and establishing her rights without any fear and complex.